पहल

  • देश भर में एक लाख से ज्यादा प्राकृतिक चिकित्सा केन्द्र स्थापित करने का प्रस्तावः श्रीपद नाईक
  • "रिजोइस हेल्थ फाउंडेशन" ने राष्ट्रीय रेजोइस आयुष अवार्ड का आयोजन किया.
  • द एनजीओ टाईम्स ने शुरु किया यूट्यूब चैनल, एनजीओ के कार्यक्रम भी लाईव होंगे।
  • इंफोसिस फाउंडेशन देगा सोशल इनोवेशन अवार्ड्स
  • संयुक्त राष्ट्र में दिखाई जाएगी मानव तस्करी पर आधारित फिल्म 'लव सोनिया'

एनजीओ ‘चाइल्ड सर्वाइवल इंडिया’ की बाल विवाह के खिलाफ 'सफेद बिंदी' मुहिम।

नई दिल्ली: औरत के श्रृंगार में बिंदी का चलन वर्षों से है और इसी चलन का इस्तेमाल बाल विवाह की कुरीति के खिलाफ आवाज बुलंद करने के लिए एनजीओ चाइल्ड सर्वाइवल इंडिया ने किया है। बाल विवाह के खिलाफ जनमत को एकजुट करने के मकसद से इस एनजीओ ने हजारों सफेद बिंदियों से लैस एक कलात्मक कृति का अनावरण कर 'नो चाइल्ड ब्राइड्स' (कोई बाल दुल्हन नहीं) नाम की एक मुहिम शुरू की है।

 

इस कृति में कुल 39,000 बिंदियों से झारखंड की एक 15 साल की लड़की का चित्र बनाया गया है। चित्र बनाने के लिए 39,000 बिंदियों का इस्तेमाल इसलिए किया गया क्योंकि दुनियाभर में हर रोज करीब इतनी ही संख्या में बाल विवाह के मामले सामने आते हैं।

चाइल्ड सर्वाइवल इंडिया के प्रखर जैन ने बताया, शादीशुदा महिलाओं द्वारा लगाई जाने वाली लाल बिंदी प्यार और समृद्धि की प्रतीक है। यह भी माना जाता है कि बिंदियां महिलाओं को किसी अनहोनी से बचाती है। सफेद बिंदी लगाने का चलन है, पर अब भी ज्यादा महिलाएं सफेद बिंदी नहीं लगातीं। लिहाजा हमने सोचा कि सफेद बिंदी को बाल विवाह के खिलाफ एक प्रतीक के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

जैन ने अपने दोस्तों- सुमित और निखिल के साथ झारखंड और हरियाणा का दौरा किया और बाल विवाह का शिकार हुई दुल्हनों पर शोध किया एवं उनकी तस्वीरें लीं। तकरीबन छह महीने के काम के बाद उन्होंने ‘चाइल्ड सर्वाइवल इंडिया’ नाम का एक एनजीओ शुरू किया जो भारत में बाल विवाह में कमी लाने की दिशा में काम करता है।

(भाषा)

Related Article

सुर्खियां

Facebook पर Like करें

Featured Organization

Go to top