images/New TRans Logo.png

दंगा पीड़ितों की मदद राशि पी गई तीस्ता सीतलवाड़ की एनजीओ।

अहमदाबाद। दंगा पीड़ितों ने आरोप लगाया है कि सामाजिक कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ की एनजीओ ने पीड़ितों के नाम पर लिए गए लाखों रूपए का डोनेशन खा गई। गुलबर्ग सोसायटी के लोगों का कहना है कि पिछले दस साल से एनजीओ के लोग झूठे वादे कर रहे हैं, ये हमें गरीब दिखाकर, हमारे नाम पर खुद अपनी जेबें भर रहे हैं।                                    

                             

 

गुलबर्ग सोसायटी को एक संग्रहालय में तब्दील करने के लिए जमा की गई 1.51 करोड़ रुपये की राशि हड़पने के मामले में सीतलवाड़ के अलावा उनके पति जावेद आनंद, जकिया जाफरी के पुत्र तनवीर जाफरी तथा दो अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज हुआ है।

सोसायटी के लोगों ने एक सीतलवाड के एनजीओ सिटीजंस फॉर पीस एंड जास्टिस को नोटिस भेजा है नोटिस में कहा गया है कि उन्हें जानकारी मिली है कि तीस्ता ने उनके घरों के पुर्ननिर्माण के लिए और सोसायटी को म्यूजियम के रूप में विकसित करने के लिए देश और विदेशों से बड़ी मात्रा में दान लिया। डोनेशन की राशि को सीजेपी और सबरंग ट्रस्ट के खातों में जमा किया गया है

 

इसे भी पढ़ें...

तीस्ता जावेद सीतलवाड फर्जी शपथ-पत्र और नकली गवाहों के मामले में सुप्रीम कोर्ट की लताड़ खा चुकी हैं तथा इनके  NGO पर पहले भी कई आरोप लगते रहे हैं। स्वतंत्र टिप्पणीकार सुरेश चिपलूनकर का एक लेख।