अध्यापकों ने फर्जी ढंग से बच्चों की संख्या अधिक दिखा कर मिड डे मील का फंड खा लिया

बुलंदशहर के विद्यालयों में मिड-डे-मील की आड़ में हो रहे बड़े घपले को पकड़ा गया। अध्यापकों ने न सिर्फ बच्चों की संख्या से अधिक मिड डे मील पर खर्च कर सरकारी खजाने का धन हड़प लिया बल्कि रसाइयों की संख्यां में भी हेरा फेरी कर घपला किया । मामला पकड़ में आने पर सीडीओ ने बीएसए से स्पष्टीकरण मांगा है।

सिकंदराबाद ब्लॉक में मिड-डे-मील और ड्रेस वितरण का सच जानने के लिए 29 अप्रैल से तीन मई तक परिषदीय विद्यालयों का निरीक्षण कराया गया था। निरीक्षण के दौरान पाया गया कि प्रबंधन ने हर दिन 65 प्रतिशत स्टूडेंट्स के हिसाब से एमडीएम का हिसाब लिया लेकिन स्कुल में कुल छात्रों की उपस्थिति उससे कम थी।

सिकंदराबाद ब्लाक में खाना बनाने वालों की संख्या 14 है लेकिन पाया गया कि चार रसोइये हीं एमडीएम का खाना बना रहे हैं। घपला यह है कि स्कूल द्वारा 10 रसोइयों के नाम पर एक-एक हजार रुपये के हिसाब से 24 माह तक प्रतिमाह 10-10 हजार रुपये बांटे गए, लेकिन मौके पर पाए गए रसोइयों की संख्या से लगता है कि कम रसोइयों से खाना बनावा कर यहां भी रकम हड़पने का खेल खेला गया है।

 

 

- See more at: http://thengotimes.com/index.php/109-mid-day-meal/334-mid-day-meal-fraud-by-teacher

 

Related Article

सुर्खियां

Facebook पर Like करें

Go to top