NGO के खिलाफ केस, झूठी मुकदमा दर्ज करने के लिए किया था मजबूर

एनजीओ के खिलाफ केस,  महिला को बलात्कार की झूठी मुकदमा दर्ज करने के लिए किया था मजबूर। दिल्ली पुलिस को देश की एक प्रसिद्ध NGO के खिलाफ जांच करने का आदेश सिटी कोर्ट ने दिया है. बलात्कार की शिकार एक महिला ने अदालत को कहा कि एनजीओ (NGO) के कार्यकर्ता ने उसे प्रताड़ित किया और उसे अपने नियोक्ता के खिलाफ बलात्कार की झूठी मुकदमा दर्ज करने के लिए मजबूर किया.

व्यवसायी को अपनी माँ के अंतिम संस्कार करने के लिए जमानत दी गई थी, एनजीओ ने जमानत रद्द करने की मांग को लेकर एक आवेदन दायर किया था।  हालांकि अदालत ने आवेदन को खारिज कर दिया और कहा कि एनजीओ को अभियुक्त की जमानत के संबंध में याचिका दायर करने का कोई अधिकार नहीं है।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश निवेदिता अनिल शर्मा ने, पंजाबी बाग निवासी, व्यवसायी को बलात्कार के आरोप से बरी कर दिया। अदालत ने यह भी उल्लेख किया की एनजीए के पिछले काम को देखते हुए कहा कि शक्ति वाहिनी एक हजार से अधिक मामलों में जुड़ी रही है, लकिन यह पहला मामला है जिसमें एनजीओ ने आवेदन दाखिल कर अभियुक्त की जमानत रद्द करने की हद तक शामिल हो गया.

बहस के दौरान, अदालत ने पाया कि महिला को निर्मल छाया घर भेजा गया था, महिला ने निर्मल छाया के अधीक्षक को लिखा था कि  उसके नियोक्ता उसके साथ बलात्कार नहीं किया था। बहरहाल, महिला ने न्यायालय के समक्ष गवाही दी की एनजीओ कार्यकर्ता ने उसे कहा था कि अगर वह उसके मालिक के खिलाफ बलात्कार की शिकायत दर्ज करती है तो उसे बहुत सारा रुपया प्राप्त होगा, उसके बाद हीं उसने झूठी रिपोर्ट दर्ज करवाया।

प्लेसमेंट एजेंसी, एनजीओ और पुलिस के बीच स्पष्ट नेक्सस और एक गरीब आदिवासी महिला का इस्तेमाल किसी एक या तीनो द्वारा उगाही करने के लिए किया गया, इसे देखते हुए अदालत ने एनजीओ और पुलिस को नोटिस दिया है. अदालत ने महिला के खिलाफ भी झूठी गवाही देने का मामला दर्ज करने का आदेश दिया.

Leave a Reply

error: Content is protected !! Plz Contact us 9560775355

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

The Ngo Times will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.

To get the latest updates

Subscription is Free