बिक रहीं हैं बेटियां बाजार में, मौन क्यों हैं हम ? । Human Trafficking in India

महज 15 साल की उम्र पूरी करने से पहले हीं छत्तीसगढ़ के सितौंगा गांव की एक युवती को पांच बार बेचा गया। उसे छोटे से अंधेरे कमरे में रखा गया, यातना और बलात्कार उसकी नियती बन गई। एक नबालिग लड़की की यह दुर्दशा बयां करती है कि हिन्दुस्तान की बेटियां किस कदर मानव तस्करी के मकड़जाल में उलझकर यातनाओं और दैहिक शोषण की शिकार हो रहीं हैं।

‘जीरो ट्रेफिक’ (Zero Trafficking) नाम से प्रकाशित एक रिपोर्ट को माने तो कमोवेश यही हालात देश की 1.6 करोड़ बेटियों की है। शोध से पता चला है कि इतनी बड़ी संख्या में लड़कियों और औरतों को जबरदस्ती जिस्म के बाज़ार में ढ़केला गया है। ‘दसरा’ संस्था द्वारा दिसंबर 2013 में प्रकाशित इस रिपोर्ट की माने तो भारत में तीस लाख महिलायें तो केवल व्यवसायिक यौन क्रियाकलाप के कीचड़ में फसीं हुई हैं। इनमें 60 प्रतिशत लड़कियां 12 से 16 वर्ष की हैं, जिन्हें तस्करी करके इस दलदल में उतारा गया है।  रिपोर्ट के अनुसार हिन्दुस्तान में तीन लाख वेश्यालय हैं, जिनमें वेश्यावृति में शामिल महिलाओं के साथ करीब 50 लाख बच्चे भी रहते हैं।

पिछले तीन साल में अकेले झारखंड राज्य में ही तस्करी के मामलों में तीन गुना बढोतरी हुई है। दलालों के चंगुल से आजाद कराये गए लड़कियों और बच्चों के बारे में तो कुछ पता चल भी जाता है, लेकिन जो बचाए नही जा सकते है उनमें से ज्यादातर को उस वीभत्स समाज में परोस दिया जाता जहां उन्हें यौन शोषण के साथ-साथ तमाम तरह के मानसिक और शारीरिक कष्टों को झेलना पड़ता है।  

हरियाणा के कई इलाके में ‘पारो’ का खूब चलन है, जो देश के गरीब इलाके की बेटियां हैं। ‘पारो’ या ‘मोलकी’ का अर्थ है खरीदी हुई। इनका न तो सम्पत्ति में अधिकार है और न ही ये परिवार या समाजिक मामलों में हस्तक्षेप कर सकती हैं। पूरा जीवन बंधुआ दुल्हन एवं यौन गुलामों की तरह बीत जाता है। ऐसी अनेक लड़कियां हैं, जो बिहार, उड़ीसा और बंगाल के गरीब क्षेत्रों से दुल्हन बना कर, तस्करी के जरिए या फिर खरीद कर के लाई गई हैं। हैरानी की बात है कि इस आधुनिक युग में भी चंद पैसों की खातिर बेटियां बिक रही है, उसकी बोली लगाई जाती है। पूर्वी भारत के दूर-दराज इलाके से दुल्हनें 30 से 40 हजार रुपयों में खरीदी जाती हैं। गांवों के गरीब परिवारों की बेटियां इस अमानवीय परिस्थिति की सबसे ज्यादा शिकार होती हैं।

तरक्की की मिशाल पेश करते महानगर, खासकर दिल्ली व मुंबई में लड़कियों व महिलाओं को घरेलु कामकाज के लिए ले जाया जाता है, लेकिन इनमें से अधिकतर को शारीरिक यातनाओं व यौन शोषण को सहना पड़ता है। आदिवासी क्षेत्रों से महानगरों में घरेलु कामकाज के लिए लाई जाने वाली लड़कियों को सुनहरे सपनें दिखाये जाते हैं और अंत में इनमें से बहुतों को दलाल वेश्यावृति के दलदल में फंसा देते हैं।

लड़कियों की तस्करी और देह व्यपार ने तो अब संगठित अंतराष्ट्रीय अपराध का रुप ले लिया है। पहले नेपाल और बांग्लादेश की लड़कियों को ही भारत के जिस्म के बाजार में बेचा जाता था, लेकिन अब तो रसियन फेडरेशन के माफिया भी इस धंधे में उतर आए हैं। ये वो माफिया हैं जो गोवा में गैरकानुनी ढंग से रियल स्टेट और ड्रग्स के कारोबार पर पहले से ही काबिज हैं। युनाइटेड नेशन कन्वेंशन अगेंस्ट ट्रांसनेशनल ऑरगेनाईज्ड क्राइम के मुताबिक इन लोगों ने अपने गैरकानुनी धंधे में अब मानव तस्करी और जिस्म के काले कारोबार को भी शामिल कर लिया है।

देश के प्रसिद्द पर्यटक स्थल पर तो पहले से हीं बदनामी का दाग़ लगा हुआ था, ऐसे में सेक्स के अंतराष्ट्रीय रैकेट, वो भी मानव तस्करी के द्वारा होना अपने आप में चिंता का सबब है। तस्करी कर गोवा के सेक्स बाज़ार में ढकेली जा रही लड़कियों में नाबालिग भी होती है। कई बार पुलिस ने छापे मारकर इन्हें गोवा के तटीय इलाकों से मुक्त कराया है। रमणीय स्थानों पर बिज़नेस कॉन्फ्रेंस और कॉमरशियल इवेन्ट इस काले कारोबार को फैलने मे मददगार साबित हो रहा है। लड़कियों को इवेन्ट मैनेजमैंट एजेन्सीज के माध्यम से भी भर्ती करने का मामला बढ रहा है। हाल हीं में गोवा पुलिस ने अंजुना इलाके से कई लड़कियों को छुड़ाया जिन्हें आन्ध्र प्रदेश की एक फर्टीलाईजर फर्म द्वारा कॉन्फ्रेंस के नाम पर गोवा लाया था।

मतलब साफ है कि भारत की बेटियां बिक रही हैं। गांवों में, गोवा में, बाज़ारों में, चकलाघरों में और मौन हैं हम। इस जुर्म को रोकने के लिए सरकार के तरफ से की जाने वाली कवायद और तमाम व्यवस्थायें नाकाफी साबित हो रहीं हैं। हालात बता रहे हैं कि इस धिनौने ब्यापार का क्षेत्र और व्यापक होता जा रहा है। लड़कियों और नबालिग बच्चियों को पुलिस, दलालों और माफियाओं की सांठ-गांठ से इस दलदल में ढ़केला जा रहा है।

अब वक्त दलील देने का नहीं, दलालों के दमन करने का है, सांठगांठ पर नकेल कसने का है। पुलिस, दलाल और माफियाओं के गठबंधन पर प्रहार कर, आदिवासी और गरीबी क्षेत्र के परिवारों के आर्थिक सामाजिक उत्थान में तेजी लाने का है। देश भर में व्याप्त आर्थिक असमानता, लड़कियों एवं महिलाओं के प्रति वर्षो से चली आ रही सामाजिक असमानता और कुरीतियों को खत्म करने का है। डिमांड सप्लाई की कड़ी को तोड़ने की जरुरत है। महिला आयोग द्वारा सेल बनाने के सुझाव पर जल्द से जल्द अमल करके, लोगों में जागरुकता लाकर, रेस्क्यु ऑपरेशन में तेजी लाकर, खुफिया तंत्र को कारगर मजबुती देकर, संबंधित विभागों में संवेदना जगाकर, छुड़ाए गई लड़कियों एवं महिलाओं को सुरक्षा देकर, शेल्टर एवं पुनर्वास की उचित व्यव्स्था कर, ट्रांजिट प्वाईंट पर नजर रखकर महिलओं और मासूम बच्चियों को जुर्म की इस स्याह दुनिया से बचाया जाय। नबालिगों का यौन व्यव्साय के लिए तस्करी को खत्म करने के लिए कनेडियन इन्टिग्रेटेड एप्रोच से सीख लेकर भी बहुत कुछ किया जा सकता है। कम से कम महिला दिवस पर हीं सही, इन सवालों का जवाब मन से तलाशने की जरुरत है तभी मुक्ति का मार्ग प्रशस्त हो पाएगा।

(विकास सिंह) © The NGO Times

Leave a Reply

error: Content is protected !! Plz Contact us 9560775355

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

The Ngo Times will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.

इस website को अपने ईमेल से सब्सक्राईब कर लें ताकि नई जानकारी आपको समय पर मिल सके। यह पुर्णतः निःशुल्क है।