विविध

  • बेदाग हुए वैज्ञानिक नंबी नारायणन, अधिकारी ने कहा था, अगर आप बेदाग निकले तो मुझे चप्पल से पीट सकते हैं।
  • जालंधर इंडस्ट्री डिपार्टमेंट एनजीओ के पंजीकरण के लिए कैंप लगाएगा
  • दिल्ली में स्थित नारी निकेतन व महिला आश्रम में अव्यवस्था का बोलबाला, मंत्री ने महिला आश्रम की कल्याण अधिकारी को निलंबित किया
  • एनजीओ पर शिकंजा कसने की तैयारी, गृह मंत्रालय दे सकता है आंतरिक जांच का आदेश
  • एनजीओ की फाइलें अंडर सेक्रेटरी के घर पर मिलीं

एनजीओ की फाइलें अंडर सेक्रेटरी के घर पर मिलीं

नई दिल्ली:  महिलाओं और बच्चों के कल्याण और विकास के काम करने वाली एनजीओ केर इंडिया की फाइलें भी अंडर सेक्रेटेरी आनंद जोशी के घर से मिली हैं। केर इंडिया भारत में 100 करोड़ से ऊपर भारत में एड के तौर पर भेजता है। गृह मंत्रालय के मुताबिक कई सीक्रेट नोट्स भी उसके घर से मिले हैं। कुछ इन्फर्मेशन एंड ब्रॉड्कॉस्टिंग की फाइलें भी मिली हैं। 

जोशी के खिलाफ मंत्रालय ने विभागीय जांच भी शुरू कर दी है। आनंद जोशी की कई महीनों से कई विभागों से शिकायतें भी आ रही थी। CBI की रिपोर्ट आने के बाद उनपर करवाई हो सकती है।  सीबीआई ने मंत्रालय के कुछ अफसरों से पूछताछ भी की। यह जानने के लिए कि क्या जोशी फाइलों को अपने घर ले जाते थे। किसी भी एनजीओ को नोटिस भेजने से पहले या बाद में फाइलों का मूवमेंट कैसे होता था।

आईबी के मुताबिक केर इंडिया उनके रडार पर नहीं था बल्कि तीस्ता सीतलवाड का एनजीओ सबरंग था। आईबी के मुताबिक भारत में फिलहाल तीन तरह के एनजीओ काम कर रहे हैं। पहला जो सर्विस डिलिवरी के इलाके में काम करते है। भारत में कारण 90 फीसदी एनजीओ इसी कैटेगरी में आते हैं। दूसरा जो एडवोकेसी करते हैं। भारत में इनकी संख्या 8 फीसदी के आसपास है। इस कैटेगरी के एनजीओ सबसे ज्यादा वॉचलिस्ट में हैं। तीसरी कैटेगरी थिंक टैंक की है।

Related Article

सुर्खियां

Facebook पर Like करें

adsense 9 4 2018

ADD YOUR NGO

in NGOs list 

  भारतीय एनजीओ की सूची 

Go to top