एनजीओ से सवाल, बच्चे छुट्टी पर थे तो किसने खाया मिड-डे मील !

हाथरस : बच्चों को मिड डे मील वितरित करने वाली संस्थाएं अपनी ओछी हरकतों से बाज नहीं आ रही हैं, और अधिकारी कार्रवाई करने से बच रहे हैं। हाथरस शहर में माध्यमिक विद्यालयों में मिड डे मील वितरित करने वाली नव प्रयास एनजीओ ने बिलों में हेरफेर कर पैसा बनाने का पुरा जुगाड़ कर दिया। मामला यह है कि एनजीओ ने रविवार के दिन भी बच्चों को मिड डे मील का बांटने का बिल लगा दिया, और इस गड़बड़ी को डिप्टी बीएसए ने जांच के दौरान पकड़ लिया है।


कैसे किया हेराफेरी
नव प्रयास संस्था ने दिसंबर से फरवरी तक के बिल जांच के लिए नगर शिक्षा कार्यालय भेज दिए, जहां बाबू द्वारा बिलों को जांच करने के बाद उसे डिप्टी बीएसए के पास भेज दिया। लेकिन दोबारा जांच कराने पर दिसंबर माह के बिल में गड़बड़ी मिली। आठ दिसंबर को रविवार था, लेकिन एजीओ ने उस दिन भी वी सी झूरिया विद्यालय के नाम पर 157 बच्चों को मिड डे मील बांटने का बिल लगा दिया जिसके कारण उसकी पोल खुली गई।

Related Article

सुर्खियां

Facebook पर Like करें

ADD YOUR NGO

in NGOs list 

  भारतीय एनजीओ की सूची 

Go to top