मानव तस्करी विरोधी वेब पोर्टल का शुभारंभ

मानव तस्करी विरोधी वेब पोर्टल का शुभारंभ

दिल्ली : गृह राज्य मंत्री श्री आर.पी.एऩ. सिंह ने आज मानव तस्करी विरोधी एक व्यापक वेब पोर्टल का शुभारंभ किया। यह वेब पोर्टल मानव तस्करी विरोधी उपायों के प्रभावी कार्यान्वयन के लिए सभी हितधारकों, राज्यों/संघ शासित प्रदेशों और एनजीओ संगठऩों के बीच सूचना को बांटने में एक महत्वपूर्ण सूचना प्रोद्योगिकी तंत्र के तौर पर कार्य करेगा।

इस अवसर पर श्री आर.पी.एन सिंह ने बताया कि ये वेब पोर्टल अंतर्राजीय स्तर पर जटिलता वाले व्यापक मामलों का पता लगाने में मदद प्रदान करेगा। उन्होंने बताया कि ये पोर्टल मानव तस्करी विरोधी इकाइयों के विवरण, उनके स्थल, मानव तस्करी विरोधी क्षेत्रीय अधिकारियों के सम्पर्क विवरणों के अलावा तस्करी से जुड़े मुद्दों पर सूचना देने के मामले में एकल स्थल के तौर पर काम करेगा।

मानव तस्करी विरोधी इकाइयों के क्षेत्रीय अधिकारियों को संबंधित करते हुए श्री आर.पी.एन. सिंह ने कहा कि इस साइट से कानूनों, महत्वपूर्ण फैसलों, संयुक्त राष्ट्र सम्मेलनों, तस्करी किये गए लोगों और तस्करों के विवरण के साथ-साथ बचाव और सफलता जैसी घटनाओं की व्यापक जानकारी ली जा सकेगी। इसके अलावा यह विभिन्न राज्यों में लापता बच्चों के लिए संचालित राष्ट्रीय पोर्टल ‘ट्रेकचाइल्ड’ से भी जुड़ा होगा।

भारत सरकार ने आपराधिक कानून (संशोधन) अधिनियम, 2013 के गठन में कानूनी उपायों को और मजबूती प्रदान की है और यह संशोधित कानून 3 फरवरी 2013 से प्रभाव में आ चुका है। नए अधिनियम में भारतीय दंड संहिता की 370 धारा को 370ए और 370 के स्थान पर रखा गया है। यह धारा व्यापक तौर पर मानव तस्करी को रोकते हुए मानव तस्करी, बच्चों की तस्करी के अलावा किसी भी तरह के यौन शोषण, दासता और मानव अंगों को जबरदस्ती निकाले जाने के मामले में कठोर दंड देने का प्रावधान प्रदान करता है। इस पोर्टल से कानून प्रवर्तन एजेंसियों और संबंधित सरकारी विभागों के बीच सहयोग बढ़ाने में भी मदद मिलेगी।

Related Article

ADD YOUR NGO

in NGOs list 

  भारतीय एनजीओ की सूची 

Go to top